Wednesday, December 31, 2014

10 Natural Remedies to Prevent Dry Mouth

10 Natural Remedies to Prevent Dry Mouth

 
Most of us are quite familiar with dry mouth syndrome. Dry mouth occurs when your salivary glands are not producing enough saliva, which aids in the digestive process, and prevents harmful bacteria from forming. The medical term for the condition is xerostomia. However, it is not a disease.

Dry mouth can result from a wide variety of causes, which includes; infections, adverse reactions to medications and smoking. You can prevent it from occurring by maintaining a healthy lifestyle. Here are the most common causes and symptoms attributed to the condition: 
 
 
What Causes Dry Mouth:
  • Side effect of certain medications
  • Side effect of certain medical treatments
  • Side effect of certain diseases and infections
  • Smoking
  • Dehydration
  • Nerve damage
  • Surgical removal of the salivary glands
Symptoms of Dry Mouth:
  • Sores in the mouth
  • Dehydration
  • Cracked lips
  • A dry feeling in the mouth (cotton mouth)
  • Hoarseness, dry nasal passages, sore throat
  • Dry feeling in the throat or a dry and red tongue
  • Difficulty with speech 
  • Problems chewing, tasting, and swallowing
  • A burning or tingling sensation in the mouth and tongue
  • Bad breath
10 Home Remedies to Treat Dry Mouth:
 
 
1) Ginger - Ginger has some amazing properties, that help fight and prevent many medical conditions. The spicy tasting herb helps produce more saliva in the mouth while fighting off bacteria and infections. 
 
Remedy:
  • Chew a small piece of fresh ginger slowly for several times a day.
  • Drink a cup of green tea with ginger and a teaspoon of honey to increase the flavor and to keep your salivary glands functioning properly. 
2) Stay Hydrated - Dehydration is one of the most common causes of cotton mouth, which is why it is so important to drink plenty of fluids throughout the day. Avoid sugary soft drinks, as they are a major contributor to dehydration and can also rot your teeth. 
 
Remedy:
  • Try to drink at least 8 glasses of water a day, especially with each meal to promote healthy digestion.  
  • You can also suck on small pieces of ice and roll it around your tongue.
  • Snack on frozen chunks of water-based fruits and vegetables to absorb the natural juices. Citrus fruits are the best. 
  • You can blend a combination of fruits or vegetables together for a delicious smoothie.
  • You can drink up to two glasses of coconut water each day.
  • Have a cup of green tea or herbal tea each day. 
  • Consume hot liquid foods like stews and soups.
3) Aloe Vera - Aloe vera treats the sensitive tissues inside your mouth, keeping your lips and tongue moisturized. 
 
Remedy:
  • Drink ¼ cup of aloe vera juice twice a day or rinse your mouth with aloe vera juice on a daily basis.
  • You can also apply pure aloe vera gel around your mouth using a cotton swab. 
  • Leave the gel on for a few minutes, and then rinse your mouth out with cold water. Repeat 2 or 3 times a day.
 
4) Lemon Juice - The tangy sour taste of lemon juice increases the production of saliva, while keeping your breath smelling fresh and clean. Lemons are high sources of Vitamin C and protect you from catching a cold. 
 
Remedy:
  • Squeeze out half a lemon and add the juice with a tablespoon of honey to a glass of warm water to stay hydrated during the day.
  • You can make sugar-free homemade lemonade as an alternative solution.
  • Sprinkle a pinch of salt onto a lemon wedge, and rub it against your tongue to fight off dehydration.
5) Slippery Elm - Slippery elm becomes a gel-like substance when mixed together with water. It's used to treat cold sores and even soothes a sore throat. The chemicals of the elm also cause mucous secretion.  
 
Remedy:
  • Mix 1 to 2 tablespoons of slippery elm into a cup of hot water. 
  • Cover the gel and allow it to steep for 10 minutes, before straining. You can add a bit of honey to give it some taste. Drink the slippery elm tea twice a day.
  • Alternatively, you may prepare a paste with some slippery elm bark powder and a bit of hot water. 
  • Apply the paste solution inside your mouth for a few minutes. 
  • Rinse thoroughly with water, and repeat the process as needed.
6) Oil Pulling - Oil pulling is an ancient Ayurvedic medicine practice that dates back over 3,000 years. This natural remedy has many benefits for treating dry mouth, and for promoting good oral hygiene. 
 
Remedy:
  • Place 1 tablespoon of coconut oil in your mouth, and swish the oil around thoroughly for about 15 minutes.
  • Spit it out and rinse with warm water.
  • Brush your teeth as usual and repeat on a daily basis
 
7) Cayenne Pepper - Cayenne pepper can help cure nasal congestion problems and dry mouth as well. The sharp tasting cayenne pepper stimulates the production of saliva and kills off bacteria.
 
Remedy:
  • Place a tiny amount of ground cayenne pepper to a wet finger, and slowly rub it all around your tongue. You may experience an uncomfortable burning sensation for a little while, but it will help get rid of the dry mouth.
  • Add a dash of cayenne pepper powder to your soups, salads, and other dishes.
  • You can also take capsules as a substitute, but make sure you consult your doctor beforehand. 
8) Cardamom - Cardamom acts as a natural treatment for oral ulcers, infections, and various digestive issues. You can chew on it to fight bad breath and even help relieve flu symptoms. 
 
Remedy:
  • Chew on a handful of cardamom after each meal or whenever your mouth becomes dry.
  • You can mix a teaspoon of cardamom powder to a glass of hot water if you prefer not to chew it raw. Allow the cardamom to steep for 10 minutes before drinking.
  • Have a glass first thing in the morning and before you go to bed. 
  • You can rinse your mouth with lukewarm cardamom tea twice a day as another option.
9) Grapeseed Oil - Grapeseed oil contains a very high content of Vitamin E, which is used to moisten your mouth and heal cold sores. You can also snack on grapes to absorb their high water content, ideal for preventing dry mouth symptoms.
 
Remedy:
  • Gently rub a little grapeseed oil on your tongue and the inside of your cheeks using your fingers.
  • Allow the grapeseed oil to work its magic overnight.
  • Rinse your mouth out with warm water the following morning, and then brush your teeth directly after to get the taste out.  
  • Repeat process every night before going to bed.
10) Fennel Seeds - Fennel seeds are a yellow colored spice that promotes fresh breath and eliminates dehydration symptoms. Fennel seeds contain flavonoids, which quench the dry thirst in your mouth. 
 
Remedy:
  • Grab a handful of fennel seeds and eat them several times a day to prevent dry mouth.
  • Try mixing equal amounts of fennel seeds and fenugreek seeds together, which also helps to lower bad cholesterol levels. 
  • Dry roast the fennel and fenugreek seeds in a pan.
  • Eat 1/2 teaspoon of this healthy combination after each meal.
A Few Extra Preventative Measures Against Dry Mouth;
 
  • Avoid smoking and chewing tobacco, since it minimizes the production of saliva in the mouth. 
  • Take hot showers and breathe the steam in for a few minutes to keep your nasal passageway fully moisturized. 
  • Use a humidifier or vaporizer when you sleep. 
  • Breathe through your nose, not your mouth.
  • Chew a few sticks of sugar-free gum or suck on a few sugar-free candies throughout the day.
  • Try to avoid taking medicines that are diuretics, decongestants, and antihistamines.
  • Gargle with warm salt water 3 or 4 times a day.
  • Use toothpaste and mouthwash with fluoride to keep your tongue clean. 
  • Drink plenty of water with each meal and make sure you chew your food thoroughly before swallowing. 
  • Try to limit your intake of spicy foods, since they can cause irritation on the inside of the mouth.
  • Choose fresh fruits as snacks instead of junk food to stimulate the saliva glands. 
  • Avoid sugary sodas and drink water instead. 

Wednesday, December 24, 2014

The Most Astounding Aerial Photography Ever Seen

The Most Astounding Aerial Photography Ever Seen


Fort Bourtange Aerial Photography
Fort Bourtange in the Netherlands.
Astounding Aerial Photography Glacial River In Iceland
Can you believe this is real? It’s a glacial river in Iceland.
Tent City In Mecca
Over 2 million pilgrims occupy this make-shift tent city outside of Mecca during Hadj.

Lake Natron in Tanzania
Lake Natron in Tanzania.
Aerial Photography Of Eixample Barcelona
This amazing aerial photograph captures the fascinating design of the Eixample district of Barcelona.
Blue Dragon River Aerial Photography
Blue Dragon River of Portugal.

Terraced Rice Fields In Yunna China
Terraced rice fields in Yunna, China.
An Amazing Aerial View Of Amsterdam
An amazing aerial view of Amsterdam and it’s canal system.

World War 1 Trenches Aerial Photograph
An aerial photograph of the Loos-Hulluch trench systems in World War 1. British trench lines are on the left, German trench lines are on the right.
Scotsdale Arizona Photograph
Scotsdale, Arizona.
Maldives Aerial Photograph
Male, the capital of the Maldives.

Central Park Aerial Photography
Central Park, New York City.
Aerial Photography Of Victoria Falls
Victoria Falls.
Tulip Fields In The Netherlands
Tulip fields in the Netherlands

Vancouver Canada Aerial Picture
Vancouver, Canada.
Sao Paola Aerial Photograph
Sao Paola

Aerial Photography San Francisco
San Francisco, California
Verdun Cemetery
Cemetery in Verdun, France.
New York City
New York City, New York.

Aerial Photography Bern
Bern, Switzerland.
Mexico City, Mexico
Mexico City, Mexico.
Glastonbury Festival In 2013
Glastonbury Festival in 2013

Manhattan And Queens Aerial Photograph
An aerial photograph of Manhattan and Queens, New York.
The Amazon River
The Amazon River.

New York At Night
Aerial photography of New York City at night.
London Aerial Photo
London, United Kingdom.
Bath
Bath, England

Jeju Island
Jeju Island, South Korea.
Iceland River
Another photograph of a river in Iceland.
Hong Kong Aerial Photograph
Hong Kong, China.

Aerial Photography Harvest
Two fields: one has been recently harvested, the other awaits harvesting.
The Grand Canyon
The Grand Canyon from outer space.

Glastonbury Festival
Glastonbury Festival held in Somerset, England.
Aerial Photography
Maze, location unknown.
Aerial Photography Red Rocks Amphitheater
Red Rocks Amphitheater, Colorado.

Disneyland In 1962
Disneyland in 1962.
Copenhagen Suburbs Aerial Photography
The suburbs outside of Copenhagen, Denmark.
Aerial Photography Cape Town
Cape Town, South Africa.

An Aerial Photograph Of Burning Man 2013
An aerial photograph of Burning Man 2013.


भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के चुम्बकीय भाषण

अटल बिहारी वाजपेयी जी का ओजस्वी भाषण और गम्भीर लेखन अपना
Atal Bihari Vajpayee Quotes Speech in Hindi
Shree Atal Bihari Vajpayee
एक विशेष स्थान रखता है। उनकी एक आवाज पर सभी कार्यकर्ता एक जुट होकर देशहित के लिये कार्य करने के लिये तद्पर रहते थे। उनके भाषण किसी चुम्बक के समान हैं, जिसको सुनने के लिये लोगों का हुजूम बरबस ही उनकी तरफ खिंचा आता था।  विरोधी पक्ष भी अटल जी के धारा प्रवाह और तेजस्वी भाषण का कायल रहा है। अटल जी के भाषण, शालीनता और शब्दों की गरिमा का अद्भुत मिश्रण है। उनकी वाणी में ऐसी मोहनी है कि, लोग उनका प्रसन्नता पूवर्क अनुगमन करने लगते हैं।  जब सदन में अंग्रेजी छायी रहती थी तब अादरणीय अटल जी की धारा प्रवाह प्रांजल भाषा सबको पसंद आती थी। जब अटल जी बोलते थे तो नेहरु जी भी उनके भाषण को बहुत ध्यान से सुनते थे। प्रारंभ से ही अटल जी के भाषण की सभी सांसद प्रशंसा करते थे। अटल जी के भाषणों में विद्यमान काव्यात्मक शैली और तर्कपूर्ण विवेचन ने सभी को आकृष्ट किया है । यह लेख अटल जी के कुछ ऐसे ही प्रभावशील भाषणों के मनकों को एक माला में पिरोने का प्रयास है…………
भारत और नेपाल के बीच उत्पन्न मनोमानिल्य को दूर करते हुए अटल जी ने  अपने भाषण में संवेदना पूर्ण स्वर में कहा था कि,
‘दुनिया में कोई देश इतना निकट नही हो सकते जितने की भारत और नेपाल हैं। इतिहास ने, भूगोल ने, संस्कृति ने, धर्म ने, नदियों ने हमें आपस में बाँधा है।’
सांसद के रूप में अटल जी आरंभ से ही अपने भाषणों की तैयारी बङी गंभीरता के साथ करते थे। उन्होने सदन में कभी भी एक शब्द अनर्गल नही कहा। 23 मार्च 1992 को लोकसभा में उनके विचार पूर्ण और तर्क संगत भाषण को देश के सभी हिस्सों में सराहा गया। बेरोजगारी का जिक्र करते हुए अटल जी ने कहा कि, बढती हुई बेरोजगारी का क्या होगा, रोजगार देने में छोटे उद्योग अहम भूमिका अदा करते हैं किन्तु वे भी बीमार हो रहे हैं। लाखों छोटे उद्योग बंद हैं। कोई उनकी चिंता करने वाला नही है। उसमें कई लोगों की पूंजी फंसी है और उसमें काम करने वालों को दूसरी जगह रोजगार नही मिल रहा।
डॉ.राजेन्द्र प्रसाद व्याख्यान माला के अन्तर्गत, आकाशवाणी द्वारा आयोजित 2 और 3 दिसंबर को अटल जी द्वारा दिये एक लंबे व्यकतव्य में धर्म और रिलिजन के संबन्ध में अटल जी ने अपनी महत्वपूर्ण राय रखी थी। जो की आज के परिपेक्ष्य में अति प्रासंगिक है। अटल जी ने कहा था कि,
“यद्यपि धर्म का अर्थ बहुधा वही समझा जाता है जो, रिलिजन (Religion)  का मतलब है परंतु वास्तव में धर्म का अर्थ भारतीय चिंतन में अधिक व्यापक और अनेक अर्थों में हुआ है। धर्म शब्द के मूल में ध्रू धातु का संबंध धारण करने से है। अतः ये कहा जा सकता है कि, जो जिसका वास्तविक रूप है उसे बनाये रखने और उस पर बल देने में जो सहायक हो वही उसका धर्म है। धर्म और रिलिजन के अंतर को हमें समझना चाहिये। रिलिजन (Religion) का संबंध कुछ निश्चित आस्थाओं से होता है, जब तक व्यक्ति उनको मानता है, वह उस रिलिजन (Religion), उस मज़हब का सदस्य बना रहता है। जैसे ही वह उन आस्थाओं को छोङता है, वह उस रिलिजन से बहिष्कृत हो जाता है।धर्म केवल आस्थाओं पर आधारित नही है। किसी धार्मिक आस्था में विश्वास न रखने वाला व्यक्ति भी धार्मिक अर्थात सदगुंणी हो सकता है। धर्म वस्तुतः जीने का तरीका है। वह आस्थाओं से अधिक जीने की प्रक्रिया पर आधारित है। धर्म के साथ विशेषण जोङने की परिपाटी नही है। धर्म न देश से बंधा है न काल से और न वे किसी सम्प्रदाय विशेष से जुङा है। धर्म जब किसी सम्प्रदाय विशेष से जुङता है तब वह रिलिजन का रूप ग्रहण कर लेता है।धर्म जब संस्थागत धर्म बन जाता है तब वह रिलिजन(Religion)  हो जाता है। शत्पल ब्राह्मण में कहा गया है कि, धर्म शासक का भी शासक है तथा धर्म में प्रभु सत्ता निहीत है। महाभारत में भी इसका प्रमाण मिलता है कि, शासक धर्म के अधीन रहता है।”
अटल जी को 17 अगस्त 1994 को वर्ष के सर्वश्रेष्ठ सांसद के सम्मान से सम्मानित किया गया।  उस अवसर पर अटल जी ने अपने भाषण में कहा था कि,”मैं अपनी सीमाओं से परिचित हुँ , मुझे अपनी कमियों का एहसास है। निर्णायकों ने अवश्य ही मेरी न्यूनताओं को नजर अंदाज करके मुझे निर्वाचित किया है। सद्भाव में अभाव दिखाई नही देता।  यह देश बङा अद्भुत है और अनुठा है। किसी भी पत्थर को सिंन्दूर लगाकर अभिवादन किया जा सकता है, अभिनंदन किया जा सकता है। लोकतंत्र 51 और 49 का खेल नही है, लोकतंत्र मूल रूप से एक नैतिक व्यवस्था है। संविधान और कानून सबका अपना महत्व है लेकिन लोकतंत्र एक ढांचा मात्र बनकर रह जाए, एक कर्मकांड में बदल जाये, उसकी प्राण शक्ति घटती जाये तो वहाँ कठिनाई पैदा हो जाती है। उस प्राण शक्ति को घटने न देना, हम सबकी जिम्मेदारी है। मैं आप सबको ह्रदय से धन्यवाद देता हुँ। मैं प्रयत्न करुंगा कि इस सम्मान के लायक अपने आचरण को बनाये रख सकुं। जब कभी मेरे पैर डगमगायें तब ये सम्मान मुझे चेतावनी देता रहे कि इस रास्ते पर डांवाडोल होने की गलती नही कर सकते। बहुत-बहुत धन्यवाद।”
अटल जी लोकतंत्र के प्रहरी हैं जब कभी लोकतंत्र की मर्यादा पर आँच आई तो अटल जी ने उसका डंटकर मुकाबला किया। लोकतंत्र के विषय में उनके विचार स्पष्ट है। वे कहते हैं, भारत संसार का सबसे बङा लोकतंत्र है 1975 और 1976 के छोटे से कालखंड को छोङकर लोकतंत्र की व्यवस्था अक्षुणं रही। बालिग मताधिकार, निश्पक्ष चुनाव, स्वतंत्र न्याया पालिका, बहुदलिय पद्धति तथा स्वतंत्र प्रेस हमारे लोकतंत्र के आधार हैं। यहाँ लोग चुनाव के माध्यम से सरकार बदलते हैं।
लखनऊ संसदीय  क्षेत्र के महुना ग्रामीण अंचल में एक विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए अटल जी ने कहा था कि,
हमारे देश में गॉव उपेक्षित है। उनकी फिक्र करने वाले दिल्ली नही छोङते वहीं बैठे-बैठे सिर्फ चिन्ता करते हैं। गॉव में यदि कुँए न हो तो लोग प्यास से मर जाएं। हमारे यहाँ कुएँ भगवान हैं। मैने अपने क्षेत्र में हैडपंप लगवाए, पर पता चला कि वे गरमी में पानी नही देते। अपने मजाकिया अंदाज में अटल जी कहते हैं कि,लोग कहते हैं कि ये अटल जी के हैंडपंप हैं। अटल जी ने कहा कि, अधिकारियों और ठेकेदारों के बीच सांठ-गाँठ हो गई, घोटाला हुआ, जहाँ देखो वहाँ घोटाला ही घोटाला। ये देश घोटालों मे पूरी तरह से डुबा हुआ है। जनता के प्रतिनिधी जनता का कुछ भी ध्यान नही रखते। वे केवल अपने और अपने परिवार तक ही सिमित हो गये हैं।
अपने भाषणों के सम्बंध में अटल जी कहते हैं कि मेरे भाषणों में मेरा लेखक मन बोलता है लेकिन राजनेता भी चुप नही रहता। राजनेता लेखक के समक्ष अपने विचार रखता है और लेखक पुनः उन विचारों को पैनी अभिव्यक्ति देने का प्रयास करता है। मै तो मानता हूँ कि मेरे राजनेता और मेरे लेखक का परस्पर सम्मनव्यय ही मेरे भाषण में दिखाई देता है। मेरा लेखक राजनेता को मर्यादा का उल्घंन नही करने देता। अटल जी सदैव दल से ऊपर उठकर देशहित के बारे में सोचते, लिखते और बोलते हैं। पहली बार प्रधानमंत्री बनने पर जब अटल जी जब अपने संसदीय क्षेत्र लखनऊ गये तो वहाँ की जनता को सम्धित करते हुए उन्होने कहा था कि,
“कोई अपने घर में मेहमान नही होता, चुनाव में मै आपका उम्मीदवार था। आप लोगों ने मुझे सेवा का अवसर दिया, आप लोगों के प्रति आभार प्रकट करने के लिये मैं यहाँ आया हुँ। आप लोगों ने मुझे एम पी बनाया और दिल्ली पहुँचकर पी एम बन गया। लखनऊ से मेरा बहुत पुराना नाता है। मैं 1946 में यहाँ एक मासिक पत्रिका के सम्पादक के रूप में आया था। मैं चाहता था कि उन पुरानी गलियों में फिर से जाऊँ किन्तु सुरक्षा कारणों से ऐसा नही हो सकता। हम एकता में विश्वास करते हैं, एक रूपता में नही। हमारा देश दुनिया में अनुठा है। भाईचारे की अद्भुत मिसाल वाला ये देश अनुठा बना रहेगा। कोई हमें सेक्युलरवाद पढाये इसकी हमें जरुरत नही। सेक्युलरवाद तो हमारी सांस-सांस में है। यहाँ सभी को अपने मजहब के अनुसार पूजा अर्चना का संवैधानिक अधिकार है। हम देश को सर्वधर्म समभाव की दिशा में ले कर चलें। हमें राष्ट्र निर्माण का अवसर मिला है, देश की जनता पर हमें भरोसा है। हम आश्वासन देते हैं कि हमारे प्रयत्नों में कोई कमी न होगी। सबको मिलकर राष्ट्र निर्माण का काम करना होगा। राजनीति से ऊपर उठकर सबको लगना होगा। आपने स्वागत करके मुझे और अधिक कार्यरत करने की क्षमता प्रदान की है। आप सबके स्नेह और सहयोग के लिये धन्यवाद।”
आदरणीय अटल जी के और भी कई महत्वपूर्ण भाषण हैं परंतु आज की माला भारत के गुणगान के साथ पूर्ण करते हैं। अटल जी को अपने भारत पर बहुत गर्व है एक अवसर पर उन्होने कहा था कि,
“भारत ज़मीन का टुकङा नही है, जीता-जागता राष्ट्र पुरुष है। हिमालय इसका मस्तक है, गौरी शंकर शिखा है। कश्मीर किरिट है, पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं। विनध्याचल कटि है, नर्मदा करधनी है। पूर्वी और पश्चिमी घाट दो विशाल जँघाए हैं। कन्याकुमारी उसके चरण हैं, सागर उसके चरण पखारता है। पावस के काले-काले मेघ इसके कुंतल केश हैं। चाँद और सूरज इसकी आरती उतारते हैं। यह वंदन की भूमि है, यह अर्पण की भूमि है, अभिनन्दन की भूमि है। यह तर्पण की भूमि है। इसका कंकर-कंकर शंकर है, इसका बिंदु-बिंदु गंगाजल है। हम जियेगें तो इसके लिये और मरेंगे तो इसके लिये।”
मित्रों, ये कहना अतिश्योक्ति न होगी कि, पुरे विश्व में अटल जी एक श्रेष्ठ वक्ता के रूप में अपनी छाप छोङने में सफल रहे हैं। अपनी भाषा, अपनी संस्कृति, अपने देश और अपने देशवासियों पर गर्व करने वाले आदरणीय अटल जी  का हम उनके जन्मदिवस पर शत् शत् नमन और अभिनन्दन करते हैं।
वंदे मातरम

युगपुरुष स्वामी विवेकानंद का युवाओं को एक पत्र

युगपुरुष स्वामी विवेकानंद का युवाओं को एक पत्र

Swami Vivekananda Life Incidents in Hindiयुगपुरुष विवेकानंद जी का एक पत्र  जिसमें उन्होंने भारतीय संस्कृति और धर्म का जन-जन में संचार करने
Swami Vivekananda
के लिये युवाओं का आह्वान किया है। स्वामीजी ने अपने अल्प जीवन में धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र और प्रगतिशील समाज की परिकल्पना की थी। स्वामी जी ये पत्र 19 नवम्बर 1894 को न्युयार्क से भारत के श्रीयुत, आलासिंगा, पेरुमल आदि भक्तों को लिखे थे। ये पत्र उनकी भावनाओं-मान्यतओं और जीवन दर्शन का स्पष्ट प्रमाण है।
मित्रों, उस पत्र का कुछ अंश आप सभी से share कर रहे हैं।
हे वीर हद्रय युवकों,
यह बङे संतोष की बात है कि, अब तक हमारा कार्य बिना रोक टोक के उन्नती ही करता चला आ रहा है। इसमें हमें सफलता मिलेगी, और किसी बात की आवश्यता नही है, आवश्यकता है केवल प्रेम, अकपटता और धैर्य की। इहलोक और परलोक में यही बात सत्य है। यदि कोई कहे कि देह के विनाश के पिछे और कुछ नही रहा तो भी उसे ये मानना ही पङेगा कि स्वार्थपरता ही यर्थात मृत्यु है।
परोपकार ही जीवन है, परोपकार न करना ही मृत्यु है। ऐ बच्चों, सबके लिये तुम्हारे हद्रय में दर्द हो- गरीब, मूर्ख, पददलित मनुष्यों के दुख का तुम अनुभव करो, समवेदना से तुम्हारा हद्रय भरा हो। यदि कुछ भी संशय हो तो सबकुछ ईश्वर के समक्ष कहदो, तुरन्त ही तुम्हे शक्ति, सहायता और अदम्य साहस का आभास होगा। गत दस वर्षो से मैं अपना मूलमंत्र घोषित करता आया हुँ- प्रयत्न करते रहो। और अब भी मैं कहता हुँ कि अकिंचन प्रयत्न करते चलो। जब चारो ओर अंधकार ही अंधकार था तब भी मैं प्रयत्न करने को कहता था, अब तो कुछ प्रकाश नजर आ रहा है। अतः अब भी यह कहुँगा कि प्रयत्न करते रहो। वत्स, उरोमा अनंत नछत्र रचित आकाश की ओर भयभीत दृष्टी से मत देखो, वह हमें कुचल डालेगा। धीरज धरो, फिर तुम देखोगे कि कई धंटो में वह सब का सब तुम्हारे पैरों तले आगया है। धीरज धरो, न धन से काम होता है, न यश काम आता है, न विद्या; प्रेम से ही सबकुछ होता है। चरित्र ही, कठिनाइयों की संगीन दिवारें तोङ कर अपना रास्ता बना लेता है।
अब हमारे सामने यह समस्या है- स्वाधीनता के बिना किसी प्रकार की उन्नती संभव नही है। हमारे पूर्वजों ने धार्मिक चिंता में हमें स्वाधीनता दी थी और उसी से हमें आश्चर्यजनक बल मिला है, पर उन्होने समाज के पैर बङी-बङी जंजीरों से जकङ दिये और उसके फलस्वरूप हमारा समाज, थोङे शब्दों में यदि कहें तो ये भयंकर और पैशौचिक हो गया है। दूसरों को हानि न पहुँचाते हुए, मनुष्य को विचार और उसे व्यक्त करने की स्वतंत्रता मिलनी चाहिये एवं उसे खान-पान, पोशाक, पहनावा, विवाह-शादि हर एक बात में स्वाधीनता मिलनी चाहिये।
भारत को उठना होगा, शिक्षा का विस्तार करना होगा, स्वहित की बुराइयों को ऐसा धक्का देना होगा कि वह टकराती हुई अटलांटिक महासागर में जा गिरे। ब्राह्मण हो या सन्यासी, किसी की भी बुराई को क्षमा नही मिलनी चाहिये। अत्याचारों का नामोनिशान न रहे, सभी को अन्न अधिक सुलभ हो।
किन्तु, ये व्यवस्था धीरे-धीरे लानी होगी- अपने धर्म पर अधिक जोर देकर और समाज को स्वाधीनता देकर यह करना होगा। प्राचीन धर्म से पौरोहित्य की बुराईयों को हटा दो, तभी तुम्हे संसार का सबसे अच्छा धर्म मिल पायेगा। भारत का धर्म लेकर एक यूरोपिय समाज गढ सकते हो। मुझे विश्वास है कि यह संभव है और एक दिन ऐसा जरूर होगा। एक ऐसे उपनिवेश की स्थापना करो जहाँ सद्विचार वाले लोग रहें, फिर यही मुठ्ठी भर लोग सारे संसार में अपने विचार फैला देंगे। इसके लिये धन की आवश्यकता है सही, पर धन आ ही जाएगा। इस बीच में एक मुख्य केन्द्र बनाओ और भारतभर में उसकी शाखाएं खोलते जाओ। कभी भी किसी मूर्खता-प्रसूत कु-संस्कारों को सहारा न देना। रामामुज ने सबको समान समझकर मुक्ति में सबका समान अधिकार घोषित किया था, वैसे ही समाज को पुनः गठित करने की कोशिश करो। उत्साह से हद्रय भर लो और सब जगह फैल जाओ।
नेतृत्व करते समय सबके दास बनो, निस्वार्थ रहो कभी भी एक मित्र के पिछे निन्दा करते न सुनो। धैर्य रखो तभी सफलता तुम्हारे हाँथ आयेगी। काम करो, काम करो औरों के हित के लिये काम करना ही जीवन का लक्षण है। हाँ! एक बात पर सतर्क रहना, दूसरों पर अपना रौब जमाने की कोशिश न करना। दूसरों की भलाई में काम करना ही जीवन है।
मैं चाहता हुँ कि हममे किसी प्रकार की कपटता, कोई दुरंगी चाल न रहे, कोई दुष्टता न रहे। मैं सदैव प्रभु पर निर्भर रहा हुँ- सत्य पर निर्भर रहा हुँ जो की दिन के प्रकाश की तरह उज्जवल है। मरते समय मेरी विवेक बुद्धी पर ये धब्बा न रहे कि मैने नाम या यश पाने के लिये ये कार्य किया। दुराचार की गंध या बदनियती का नाम भी न रहने पाए। किसी प्रकार का टाल मटोल या छिपे तौर पर बदमाशी या गुप्त शब्द हममे न रहें। गुरू का विषेष कृपापात्र होने का दावा भी न करें। यहाँ तक कि हममें कोई गुरु भी न रहे।

तुम लोगों को मेरा आर्शिवाद  इति—-
साहसी बच्चों, आगे बढो- चाहे धन आए या न आए, आदमी मिलें या न मिलें, तुम्हारे पास प्रेम है। क्या तुम्हे ईश्वर पर भरोसा है ? बस आगे बढो, तुम्हे कोई नही रोक सकेगा। सतर्क रहो। जो कुछ असत्य है, उसे पास न फटकने दो। सत्य पर दृण रहो तभी हम सफल होंगे शायद थोङा अधिक समय लगे पर हम सफल होंगे। इस तरह काम करते जाओ कि मानो मैं कभी था ही नही। इस तरह काम करो कि तुम पर ही सारा काम निर्भर है। भविष्य की सदी तुम्हारी ओर देख रही है- भारत का भविष्य तुम पर निर्भर है। काम करते रहो.

Monday, December 22, 2014

10 Beautiful Medieval Castles

10 Beautiful Medieval Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

Beautiful Castles

 
Beautiful Castles